Old Website
मुख्य पृष्ठ
यूज़र लॉगिन

गतिविधियाँ- राज्य स्तरीय
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने जन अभियान परिषद की बैठक में दिये निर्देश

From :- State Office MPJAP, 26 May 2017


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जुलाई में होने वाले पौधरोपण कार्यक्रम की जानकारी जन-जन तक पहुँचाई जायें। उन्होंने जन अभियान परिषद के सदस्यों से कहा कि स्वयंसेवकों के पंजीयन के लिए अभियान स्तर पर कार्रवाई करें। श्री चौहान आज जन अभियान परिषद के राज्य कार्यालय में जिला, संभाग समन्वयकों एवं टॉस्क मैनेजर की बैठक को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार और खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे भी मौजूद थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वृक्षारोपण के लिये पंजीयन का कार्य युद्ध स्तर पर किया जाये। उसे व्यापक स्तर पर प्रसारित करने के लिये नियोजित तरीकों के साथ प्रयास किये जायें। संबंधित शासकीय विभागों के साथ भी समन्वय किया जायें। जन जुड़ जायेगा तो कार्य की सफलता सुनिश्चित है। उन्होंने कहा कि पर्यावरण दिवस 5 जून से वृक्षारोपण के लिए लोगों को जोड़ने का अभियान शुरू होगा। इसके पूर्व सभी आवश्यक तैयारियाँ, धार्मिक, सामाजिक संगठनों, व्यक्तियों और जनप्रतिनिधियों के साथ समन्वय और सम्पर्क का कार्य किया जाये।

श्री चौहान ने नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान संगठन की संकल्पबद्धता, परिश्रम और समर्पण की प्रशंसा की तथा कहा कि संगठन की देश में अलग पहचान बनी है। उन्होंने कहा कि सेवा यात्रा के बाद पर्यावरण जनचेतना के वातावरण को बनाए रखना जरूरी है। घाटों की देख-रेख, स्वच्छता और पूजन संबंधी जिम्मेदारियों में नर्मदा सेवा समिति के सदस्यों की सक्रियता बनी रहनी चाहिए। उन्होंने नई प्रस्फुटन समितियों के गठन की आवश्यकता बताई। नवांकुर समितियों की क्रियाशीलता को बढ़ाने को कहा। उन्होंने आदि गुरूशंकराचार्य की प्रतिमा के लिए धातु संग्रहण अभियान के विषय में बताते हुये कहा कि अभियान का मुख्य उद्देश्य आदिगुरू और उनके दर्शन को गांव-गांव, घर-घर पहुँचाना है। इस संबंध में आचार्य सभा के साथ समन्वय कर कार्ययोजना निर्माण में सहयोग करने की अपेक्षा की।

जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पान्डे ने अभियान की गतिविधियों और आवश्यकताओं की जानकारी दी। उपाध्यक्ष श्री राघवेन्द्र गौतम ने आभार माना।

जन अभियान परिषद्
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा वृक्षारोपण की वेबसाईट का लोकार्पण

From :- State Office MPJAP 24 May 2017


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नर्मदा सेवा यात्रा दुनिया में मानव के अस्तित्व को बचाने का महाअभियान है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में नदियों से वैज्ञानिक तरीके से रेत खनन की व्यवस्था की जायेगी। प्रदेश की खनन नीति को भी बदला जायेगा। रेत के मूल्य को नियंत्रित रखने की व्यवस्था की जायेगी। श्री चौहान मुख्यमंत्री निवास में नर्मदा सेवा मिशन की वृक्षारोपण में जनभागीदारी के लिये पंजीयन वेबसाईट के लांचिग कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। श्री चौहान ने वेबसाईट का लोकार्पण किया तथा नर्मदा मैया की जय के साथ वृक्षारोपण के लिये उपस्थितों को संकल्पित करवाया। अभियान से जुड़ने के इच्छुक व्यक्ति वेबसाईट पर पंजीयन करा सकते हैं।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पर्यावरण और विकास में संतुलन जरूरी है। निर्माण के लिये रेत के साथ नदियों का अस्तित्व भी जरूरी है। नदियों से सिल्ट उठाने के लिये जितना आवश्यक है, उतना ही उत्खनन हो। ऐसे प्रबंध किये जायेंगे। मशीनों से रेत उत्खनन पूर्णत: बंद किया गया है। उत्खनन पर खनिज निगम का नियंत्रण होगा। वही उसका मूल्य भी निर्धारित करेगा ताकि गरीबों को मकान बनाने के लिये सस्ती दर पर रेत की आसान उपलब्धता हो। ठेके से रेत उत्खनन व्यवस्था को बदला जायेगा। उत्खनन कार्य मजदूरों से होगा। महिलाओं और युवाओं के स्वसहायता समूह ही उत्खनन करेंगे, जिनको माइनिंग कार्पोरेशन रेत के विपणन से होने वाला लाभांश बोनस के रूप में देगा। इससे उत्खनन से मिलने वाला पैसा जो अभी चंद ठेकेदारों की जेब में जाता है, वह लाखों गरीब मजदूर परिवारों को मिलने लगेगा।

उन्होंने कहा कि नर्मदा सेवा मिशन के तहत हर वर्ष वृहद वृक्षारोपण किया जायेगा। आगामी दो जुलाई को नर्मदा के तट और संपूर्ण कैचमेंट एरिया में वृक्षारोपण किया जायेगा। वन, राजस्व भूमि में वन प्रजाति और निजी भूमि पर फलदार पौधे लगाये जायेगें। पेड़ों को जिंदा रखने के सभी जरूरी कार्य किये जायेंगे। इसके साथ ही ट्रीटमेंट प्लांट लगाकर मल-जल को नर्मदा की विपरीत दिशा में ले जाया जायेगा। उसे रि-सायकल कर बागानों, खेतों आदि में छोड़ा जायेगा। धर्म-प्रमुखों ने पूजन-विधि भी बदली है। पूजन-सामग्री विर्सजन के कुंड भी बन रहे है। जैविक खेती को बढ़ाया जायेगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा सेवा अभियान को अन्य नदियों पर भी लागू किया जायेगा। इसे पर्यावरण के अन्य क्षेत्रों में भी विस्तारित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि अभियान जनता का है, उसे ही आगे रहना होगा। अभियान में सरकार का पूरा सहयोग मिलेगा। उन्होंने कहा कि नदी पर्यावरण संरक्षण के इस महायज्ञ में आहूति देने के लिये आगे आयें। मुख्यमंत्री ने जन-जागृति की अलख जगाने का आव्हान किया तथा कहा कि आगामी दो जुलाई को पौधरोपण करने वालों का ऐसा मेला लगे, जिसे देख देश-दुनिया चमत्कृत हो जाये। उन्होंने कहा कि नर्मदा सेवा मिशन धरती को बचाने का अभियान है। धरती का जिस तेजी से तापमान बढ़ रहा है, उसे यदि नियंत्रित नहीं किया गया तथा चंद भौतिक सुविधाओं के लिये प्रकृति के साथ अंधाधुन्ध छेड़छाड़ नहीं थमी तो, यह भविष्य की पीढ़ी के लिये कब्र खोदने जैसा होगा।

इस मौके पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह के साथ नर्मदा सेवा मिशन के प्रथम स्वयं सेवक के रूप में http://www.namamidevinarmade.mp.gov.in पर पंजीयन करवाया।

वन मंत्री डॉ.गौरी शंकर शेजवार ने कहा नर्मदा सेवा अभियान को अपार जन सर्मथन मिला है। इससे यह दुनिया का सबसे बड़ा नदी संरक्षण अभियान बन गया। उन्होंने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा नर्मदा नदी की धारा को अविरल और नदी को निर्मल बनाने का अभियान है। धारा को अविरल बनाने का वैज्ञानिक कार्य 2 जुलाई को पौध-रोपण से होगा। रोपण के लिये आवश्यक 6 करोड़ पौधों की व्यवस्था है। वन विभाग ने वन-प्रजाति के और उद्यानिकी विभाग ने फलदार पौधों की शासकीय-अशासकीय नर्सरियों में उपलब्धता करा ली है। पौध-रोपण के लिये जून माह में गढ्ढे खोदने का कार्य किया जायेगा। पेड़ों की सुरक्षा और जीवितता के सभी आवश्यक कार्य किये जायेंगे। पशुओं से रक्षा के लिये फेसिंग और चौकीदार रखें जा सकेंगे। यह अभियान दुनिया में वृक्षारोपण का कीर्तिमान बनायेगा।

जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री राघवेंद्र गौतम ने कहा कि माँ नर्मदा को हरियाली चुनरी ओढ़ाने के लिये 6 करोड़ पौधों का रोपण समाज के माध्यम से 2 जुलाई को होगा। उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डे ने आभार व्यक्त किया।

वेबसाइट लांचिंग कार्यक्रम में लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह, राज्य खनिज निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे, सांसद श्री भागीरथ प्रसाद, संगीतज्ञ सुश्री दुर्गा जसराज , गायत्री परिवार के डॉ. शंकर पाटीदार, सागर ग्रुप के श्री पी.एस.राजपूत, एल.एन.सी.टी. के श्री अमित उपाध्याय, आर.के.डी.एफ. के श्री योगीराज सिंह, नर्मदा सेवा समितियों, कृषि स्नातक संघ,एन.सी.सी.,एन.एस.एस., स्काउट एण्ड गाइड आदि के प्रतिनिधि एवं सदस्य उपस्थित थे।

जन अभियान परिषद्

 
नवीनतम सूचनाएँ
त्वरित संपर्क
नाम :
फ़ोन न. :
ई मेल :
पता :
सुझाव / प्रश्न :
 
विशेष
महत्वपूर्ण विभागीय लिंक
 
Powered by IT'Fusion Best View Resolusion : 1024 x 768
Total Visits Online Count
All Copy Rights are Reserved @ MPJAP Best View Browser : IE6 , Chrome