Old Website
मुख्य पृष्ठ
यूज़र लॉगिन

सबके लिए शिक्षा
प्रस्फुटन इंग्लिश मिडियम स्कूल

From :-By ZC Sagar


विकासखण्ड सागर के ग्राम बम्हौरी बीका में प्रस्फुटन समिति द्वारा प्रस्फुरटन इंग्लिश मिडियम स्कूल स्थापित किया गया जहां ऑडियो विडियो मिडिया के माध्यम से शिक्षण कार्य किया जाता है जिसका जन अभियान परिषद के उपाध्‍यक्ष मान. प्रदीप पांडेय जी द्वारा अपने सागर संभाग के प्रवास के दौरान अवलोकन किया गया और स्कूल चलें हम अभियान के तहत स्कूल से ग्राम में एक जागरूकता रैली का आयोजन कर स्कूल परिसर के मैदान में पौधारोपण का कार्य किया गया ।

श्री अमित शाह संभाग समन्वयक सागर , म.प्र. जन अभियान परिषद्
रैली कार्यक्रम

From :-By DC Neemuch, Mandla


ग्राम विकास प्रस्‍फुटन समिति, ग्राम कोहानी, ग्राम पाण्‍डीवारा जिला मण्‍डला, ग्रा. वि. प्र. स. पालसोडा जिला नीमच, ग्रा. वि. प्र. स. रजला जिला झाबुआ द्वारा स्‍कूल चलें हम अभियान अंतर्गत रैली का आयोजन। परिणामस्वरूप ग्रामो के शतप्रतिशत बच्चो को स्कूल मे प्रवेश दिलवाया गया।

जिला समन्वयक नीमच, उण्‍डला , म.प्र. जन अभियान परिषद्
स्कूल चलो अभियान के अंतर्गत ग्राम रंगपुराकेशरी

From :-By DC Raisen


प्रस्फुटन समिति के माध्यम से ग्राम में हुआ प्राईवेट प्रस्फुटन पाठशाला का संचालन,वर्ष 2010-11 में विकासखण्ड सॉची के ग्राम रंगपुरा केशरी में ब्लॉक समन्वीयक श्री आंनद कुमार नेमा द्वारा समिति का गठन किया गया। जो जिला मुख्यालय से 20 किमी. की दूरी पर भोपाल रोड पर स्थित है। समिति द्वारा अनेक बिन्दुओं पर कार्य किया जा रहा है। जिसमें समिति द्वारा ग्राम में देखा गया की ग्रामीण बालक एवं बालिकाओं को शिक्षा की अति आवश्यकता है। ग्राम से स्कूमल 8 किमी. दूरी होने पर बच्चे पहॅुच नहीं पाते है। समस्याा को देखते हुये। समिति के सचिव श्री अवधनारायण जी द्वारा ग्राम में प्रायवेट स्कू ल खुलवाने की बात की गई । और इसके बात वह ग्राम खरबई के पाठक सर से मिले एवं ग्राम रंगपुरा में स्कूतल खुलवाने की बात कही गई। और बच्चोंख का सर्वे किया गया। सर्वे करने के बाद देखा गया की स्कूलल के लिए बच्चों की संख्या 42 हो सकती है तब ग्राम में ग्राम विकास प्रस्फुटन समिति के माध्यूम से शिक्षा विषय लेते हुये पाठशाला का संचालन किया गया। इसी पाठशाला में प्रस्फुनटन समिति द्वारा विवेकांनद वाचनालय का भी सुचारू रूप से संचालन किया जा रहा है, जिसमें बच्चोंक द्वारा विवेकानंद की पुस्तलकों एवं अन्यस महापुरूषों की जीवनियों का अध्येयन किया जा रहा है। प्रस्फुटन पाठशाला को स्कूल के रूप में बदलने का कार्य श्री एस. के. पाठक, शिक्षक विनोद जी, श्री मुरलीधर मिश्रा जी द्वारा किया जा रहा है। अभी स्कूल निर्माण सेवा शिक्षा समिति से संचालित हो रहा है।

जिला समन्वयक,जिला रायसेन म.प्र. जन अभियान परिषद्

हर घर में फैले शिक्षा का उजियारा

शिक्षा को हमारे संविधान में मौलिक अधिकारों के रूप में शामिल किया है। शिक्षा के अधिकार का कानून भी बनाया गया है। लेकिन प्रारंभिक शिक्षा को लेकर आंकड़े काफी गंभीर हैं। भारत में २२ करोड़ बच्चे ६१४ वर्ष की उम्र के हैं।


शिक्षा के बिना हम विकास की कल्पना नहीं कर सकते हैं। इसीलिए शिक्षा को हमारे संविधान में मौलिक अधिकारों के रूप में शामिल किया है। शिक्षा के अधिकार का कानून भी बनाया गया है। लेकिन प्रारंभिक शिक्षा को लेकर आंकड़े काफी गंभीर हैं। भारत में २२ करोड़ बच्चे ६१४ वर्ष की उम्र के हैं। मानव संसाधन मंत्रालय के तहत एजुकेशन कंसल्टेंट्‌स इंडिया लि. के सर्वेक्षण अनुसार देश में ६ से १४ वर्ष के बीच के ८१ लाख से ज्यादा बच्चे ऐसे हैं जो स्कूलों के बाहर हैं। इनमें से ७४ फीसदी से अधिक ऐसे हैं जो कभी स्कूल की दहलीज तक नहीं पहुँचे, २५ प्रतिशत पढ़ाई बीच में छोड़ देने वालों की कतार में हैं। 
१ अप्रैल २०१० से सारे देश में शिक्षा का अधिकार कानून लागू किया गया है। यह कानून ६ से १४ वर्ष के बच्चों को निवार्य शिक्षा देने के लिए है। यह बच्चों को मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा का अधिकार देता है। बेशक आजादी के बाद शिक्षा के क्षेत्र में काफी प्रगति हुई है। आंकड़े बताते हैं


क्रं. संभाग के नाम बच्चों का शाला में प्रवेश
1. सागर संभाग 17538
2. रीवा संभाग 8423
3. ग्वालियर संभाग 10649
4. उज्जैन संभाग 4621
5. जबलपुर संभाग 4741
6. भोपाल संभाग 8359
7. इन्दौर संभाग 13381
महायोग 67712

प्रस्फुटन समितियों द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में किये गये कार्य कि ९८ फीसदी से ज्यादा इलाकों में एक किलो मीटर के भीतर एक प्राथमिक स्कूल है और ९२ फीसदी इलाकों में तीन किलो मीटर के भीतर एक माध्यमिक स्कूल है। इसके बावजूद भी बच्चों का एक बड़ा वर्ग शिक्षा से वंचित है। यह वंचितपन लोगों की जागरूकता की कमी के कारण है। संसाधन हैं, अधिकार है, सरकार अभियानों के तहत प्रचारप्रसार द्वारा जागरूक भी कर रही है पर आज भी देश का शिक्षित वर्ग इसके प्रति उदासीन है। हमें इस अशिक्षित वर्ग को जागरूक कर आने वाली पीढ़ी को मजबूत करना है।
म.प्र. सरकार हर वर्ष बड़े स्तर पर स्कूल चलें हम'' अभियान का संचालन करती है। प्रदेश के हर कोने में इस भियान के माध्यम से बच्चों को शालाओं में प्रवेश करवाया जाता है। बालिकाओं की शिक्षा पर जोर दिया जा रहा है। इन प्रयासों के चलते शिक्षा के प्रतिशत में सुधार की अपेक्षा है।
शिक्षा के क्षेत्र में म.प्र. जन अभियान परिषद्‌ द्वारा गठित प्रस्फुटन समितियाँ विशेष योगदान दे रही हैं। गाँव गाँव में शिक्षा का प्रसार प्रचार कर रही हैं। शिक्षा के महत्व और उपयोगिता पर मार्गदर्शति कर रही हैं। परिषद्‌ की प्रस्फुटन समितियों ने स्कूल चलें हम अभियान के तहत ६७७१२ बच्चों को शाला में प्रवेशित करवाया।
यह प्रयास आगे सतत चलते रहेंगे। ग्राम विकास प्रस्फुटन समिति सदस्य अपनी मेहनत और लगन से लोगों को मार्गदर्शित कर रहे हैं। इन प्रस्फुटन समितियों ने संस्कार केन्द्र खोले हैं। साक्षरता के लिये न सिर्फ मानस बनाया बल्कि उसके गहन प्रयास भी किये जा रहे हैं। गाँव में बच्चों को निःशुल्क कोचिंग व्यवस्था व कम्प्यूटर प्रशिक्षण से जोड़ने के सरहनीय प्रयास किये जा रहे हैं।

 
नवीनतम सूचनाएँ
त्वरित संपर्क
नाम :
फ़ोन न. :
ई मेल :
पता :
सुझाव / प्रश्न :
 
विशेष
महत्वपूर्ण विभागीय लिंक
 
Powered by IT'Fusion Best View Resolusion : 1024 x 768
Total Visits Online Count
All Copy Rights are Reserved @ MPJAP Best View Browser : IE6 , Chrome